11 अप्रैल 2010

3 चुटकियाँ------->>>दीपक 'मशाल'


१-
अक्स धुंधला पड़ा है मेरा
खो सा गया हूँ मैं
जाने क्या-क्या ख्वाहिश लिए
सो सा गया हूँ मैं..
वो हर घड़ी मुझे
गैर किये जाते हैं
मोहब्बत देखे वगैर
वैर किये जाते हैं..

२-
अपनी तो आदत है समझो, तुमको चिढ़ाने की
कभी तुमको सताने की कभी तुमको हंसाने की
कहने को कह दूँ दोस्त तुमको अपनी जान से प्यारा
मगर हर रिश्ते को नाम देने की आदत है ज़माने की

3-
ऐ मेह्ज़बीं ऐसा नहीं कि हमें तुमसे प्यार नहीं
खता है वक़्त की के हमें मौका नहीं मिलता
तुम्हें पता नहीं कि दुनिया में और भी हैं ताजमहल
पर दिल से निकलने का उन्हें मौका नहीं मिलता
दीपक 'मशाल'
पिक. खुद निकाले गए

2 टिप्‍पणियां:

Suman ने कहा…

nice

शिव कुमार "साहिल" ने कहा…

अक्स धुंधला पड़ा है मेरा
खो सा गया हूँ मैं
जाने क्या-क्या ख्वाहिश लिए
सो सा गया हूँ मैं..
वो हर घड़ी मुझे
गैर किये जाते हैं
मोहब्बत देखे वगैर
वैर किये जाते हैं..


bahut khub