10 जुलाई 2010

नीलम पुरी की ग़ज़ल ----- नींद आ जाये



नीलम पुरी की ग़ज़ल ----- नींद आ जाये

==============================


तुम खवाब बनकर आयो तो नींद आ जाये,
आगोश मैं अपनी सुलाओ तो नींद आ जाये,

चूम लो अपने होठों से मेरी खामोश आँखों को ,
मेरी पलकों पर वही खवाब सजाओ तो नींद आ जाये,

तुम छु लो फिर गुज़रे ज़माने की तरह,
अहसास वही फिर से जगाओ तो नींद आ जाये.

मैं शमा बन तनहा जलती हूँ रोज रातों मैं,
तुम परवाना बन मुझसे लिपट जायो तो नींद आ जाये.

खून बहता है पानी बन रगों मैं मेरी,
तुम नस नस मैं समां जायो तो नींद आ जाये,

खामोश हूँ मैं किसी गुज़रे फ़साने की तरह,
मुझे ग़ज़ल की तरह ,तुम गुनगुनाओ तो नींद आ जाये.

मासूम तो हूँ मैं भी ,मगर नीलम की तरह ,
तुम भी मेरे लिए बदल जायो तो नींद आ जाये.

आज आग मेरी नस नस मैं लगाओ तो नींद आ जाये,
आगोश मैं अपनी सुलाओ तो नींद आ जाये।

6 टिप्‍पणियां:

RUBAL ने कहा…

मासूम तो हूँ मैं भी ,मगर नीलम की तरह ,
तुम भी मेरे लिए बदल जायो तो नींद आ जाये.


वाह....बहुत ही खूब लिखी है...

ज़िन्दगी में आप बस ऐसे हे लिखते जाओ तो मंज़र बदल जाए...

viharivala ने कहा…

bahut hi achhi ghazal hai. Neelam Puri ek bahut hi savedansheel lekhika hai main hamesha unki navintam rachnaon ki intezar mein rehta hoon...Neelam ji aap ki yeh kavita bahut hi uttam hai...Daman

ρяєєтι ने कहा…

bahut acchi rachna...!

BArso se aankho main neend nahi,
khwab ban jaao to nind aa jaaye...![:)]

Mukesh Kumar Sinha ने कहा…

आज आग मेरी नस नस मैं लगाओ तो नींद आ जाये,
आगोश मैं अपनी सुलाओ तो नींद आ जाये।

iss tarah ki tadap aapke kalam se hi nikal sakta hai.........:)
apke kalam me jo jadu hai, wo sirf dharakne wala dil hi samajh sakta hai..............hai na:)

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

खूबसूरत ग़ज़ल....

kavi kulwant ने कहा…

great rachana....
good words..
and marvellous bhav..
i read it again and again...