11 अप्रैल 2009

डा0 महेन्द्र भटनागर के काव्य-संग्रह राग-संवेदन की कविता - राग-संवेदन


प्रसिद्ध साहित्यकार डा0 महेन्द्र भटनागर के काव्य-संग्रह ‘‘राग-संवेदन’’ का प्रकाशन यहाँ नियमित रूप से किया जा रहा है। सभी कविताओं के प्रकाशन के पश्चात यह पुस्तक शब्दकार पर ई-पुस्तक के रूप में देखी जा सकेगी।

-----------------------------------------------------------
लेखक - डा0 महेन्द्र भटनागर का जीवन परिचय यहाँ देखें
-----------------------------------------------------------
(1) राग-संवेदन
सब भूल जाते हैं ...
केवल
याद रहते हैं
आत्मीयता से सिक्त
कुछ क्षण राग के,
संवेदना अनुभूत
रिश्तों की दहकती आग के!
आदमी के आदमी से
प्रीति के सम्बन्ध
जीती-भोगती सह-राह के
अनुबन्ध!
केवल याद आते हैं!
सदा।
जब-तब
बरस जाते
व्यथा-बोझिल
निशा के
जागते एकान्त क्षण में,
डूबते निस्संग भारी
क्लान्त मन में!
अश्रु बन
पावन!
---------------------
सम्पर्क :
डा. महेंद्रभटनागर,
सर्जना-भवन,
110 बलवन्तनगर, गांधी रोड,
ग्वालियर — 474002 [म. प्र.]
फ़ोन : 0751-4092908
मो.: 09893409793
E-Mail : drmahendra02@gmail.com;
drmahendrabh@rediffmail.com
Blog :
www.mahendrabhatnagar.blogspot.com

1 टिप्पणी:

सतीश चंद्र सत्यार्थी ने कहा…

बहुत ही संवेदनात्मक कविता.
प्रस्तुत करने के लिए आभार.