18 अगस्त 2009

"रिश्ते"

(1)

कल रात
एक और रिश्ते की
मौत हो गई
पड़ोस में
अतिवेदना के स्वर
कुत्ते-बिल्ली का रोना था
सुबह-सवेरे उठ कर
कोई नया रिश्ता जोड़ना था
तकियों में सिर छुपाये
लंबी तान सो रहे
भई
किसे फुर्सत है मरने की
मिट्टी परआँख भरने की !

(2)

एक बार फिर
कोई रिश्ता मर गया
उम्र भर
जिसने चूमा-चाटा
साथ सुलाया
उससे ही
भरी भीड़ में
डर गया !

-डा0 अनिल चड्डा

3 टिप्‍पणियां:

hem pandey ने कहा…

रिश्ते की अनूठी परिभाषा.

अर्चना तिवारी ने कहा…

अत्यंत मार्मिक रचना...सच है

©डा0अनिल चडड़ा(Dr.Anil Chadah) ने कहा…

पाँडेजी एवँ अर्चनाजी,

रचना आपको पसन्द आई, मन को अच्छा लगा । प्रोत्साहन के लिये आभारी हूँ ।