15 मई 2009

डा0अनिल चड्डा की कविता - मेरे बिन तुम कहाँ हो


मैं हूँ
तो तुम हो
मुझसे ही तो
सारा जहाँ है
मैं न रहूँ
तो मेरे लिये
तुम्हारा
या
किसी और का भी
वजूद ही कहाँ है
इसीलिये तो कहता हूँ
मेरे बिना
न रहें खुशियाँ
न रहें ग़म
न रहो तुम
न रहें हम
पर मेरे बाद
तुम्हारे लिये तो
मेरा असतित्व रहेगा ही-
बेशक ख्यालों में ही-
मुझे मेरी
अच्छाईयों-बुराईयों के कारण
याद तो करोगे ही
और शायद सोचोगे
कि काश मैं होता
जिससे तुम
मन की बात कह पाते
पर तब
मैं नहीं होऊँगा
तुम्हारे असतित्व की
सम्पूर्णता के लिये
इसलिये
स्वीकार कर लो
कि मैं हूँ तो
तुम हो
मेरे बिन
तुम्हारा या किसी और का
वजूद ही कहाँ है !
वजूद ही कहाँ है !!
---------------------
डा0अनिल चड्डा
ब्लाग -
http://anilchadah.blogspot.com
ब्लाग -
http://anubhutiyan.blogspot.com

2 टिप्‍पणियां:

ओस की बूँद ने कहा…

bahut achchhi rachana

Rajat Narula ने कहा…

Bahut hi sundar rachna hai...